DropDown_menu

Saturday, 12 August 2017

Lakwa(Paralysis) ke lakshan aur gharelu upchar



Lakwa(Paralysis) ke lakshan aur gharelu upchar

Mastisk ki dhamni mai kisi rukawat ke karan uske jis bhag ko khoon nahi mil pata hai, mastisk(mind) ka wo bhag niskriy ho jata hai matlab mastisk ka wo hissa jin angon ko aadesh(instruction) nahi bhej pata daya(left) or baya(right) sarir niskriy ho jata hai. Iss rog ka direct connection reed ki kaddi se bhi hota hai.



मस्टिस्क की धमनी मई किसी रुकावट के कारण उसके जिस भाग को खून नही मिल पता है, मस्टिस्क(माइंड) का वो भाग निसक्रिय हो जाता है मतलब मस्टिस्क का वो हिस्सा जिन अंगों को आदेश(इन्स्ट्रक्षन) नही भेज पाता दया(लेफ्ट) ओर बया(रिघ्त) शरीर निसक्रिय हो जाता है. इश्स रोग का डाइरेक्ट कनेक्सन रीड की हड्डी से भी होता है.



lakwa rog bahut prakar ke hotey hai unme se kuch mukhya prakar niche diye hai :
1).Nimnang Lakwa : Iss prakar ke lakwa rog mai kamar ke niche ka bhag kharab ho jata hai.
2).Ardhag Lakwa : Issme sarir ka aadha bhag kharab ho jata hai.
3).Ekang Lakwa : Issme sarir ka koi ek hissa kharab ho jata hai jaise ki ek hath ya ek pair etc.
4).Pudhang Lakwa : Isme lagbhag poora sarir kharab ho jata hai.
5). Mukh Mandal Lakwa : Isse muh(face) ke kisi ek bhag par lakwa maar jata hia jisse muh teda ho jata hai



लकवा रोग बहुत प्रकार के होते है उनमे से कुछ मुख्या प्रकार नीचे दिए है :
1).निम्नांग लकवा : इश्स प्रकार के लकवा रोग मई कमर के नीचे का भाग खराब हो जाता है.
2).अर्धग लकवा : इससमे सरीर का आधा भाग खराब हो जाता है.
3).एकांग लकवा : इससमे सरीर का कोई एक हिस्सा खराब हो जाता है जैसे की एक हाथ या एक पैर एट्सेटरा.
4).पूधंग लकवा : इसमे लगभग पूरा सरीर खराब हो जाता है.
5). मुख मंडल लकवा : इससे मूह(फेस) के किसी एक भाग पर लकवा मार जाता है जिससे मुह टेडा हो जाता है



Lakwa rog ke mukhya lakshan/ Symptoms of paralysis


1.:Iss rog se pidit vyakti ko bhook aur ppyas kum lagti hai, neend nahi aati hai, aur sarir ki sakti week hoti jati hai.
2.:Rogi ki exitment khatm ho jati hai wo humesha niras sa rahta hai.
3.:Rogi ke jiss ang mai lakwa marta hai uss ang(body part) mai sunyta aa jati hai aur usse kuch dard mahssos nahi hota .
4.:Kabhi kabhi lakwa ki wajah se prabhavit hisse mai jhunjhunahat hoti hai.
5.:Sarir ki jiss side mai lakwa hota hai uss side ki naak(nose) mai khujli hoti hai .



1.:इश्स रोग से पीड़ित व्यक्ति को भूक और प्यास कम लगती है, नींद नही आती है, और शरीर की शक्ति कमज़ोर होती जाती है.
2.:रोगी की एक्शितमेंट ख़त्म हो जाती है वो हुमेशा नीरस सा रहता है.
3.:रोगी के जिसस अंग मे लकवा मरता है यूयेसेस अंग(बॉडी पार्ट) मई सुनयता आ जाती है और उससे कुछ दर्द महस्सोस नही होता .
4.:कभी कभी लकवा की वजह से प्रभावित हिस्से मई झुनझुनाहट होती है.
5.:सरीर की जिसस साइड मई लकवा होता है यूयेसेस साइड की नाक(नोस) मे खुजली होती है .



Lakwa ke gharelu upchar/Home remedies for paralysis

1.Steam Bath: Pani ki baap ka snan matlab logi ke jiss hissey par lakwa ne mara hai waha par kuch der tak bhaak ka istemaal kare.
2.Avoid Junk/Fast Food: Lakwa rogi ki pachan sakti kamzoor ho jati hai isse liye usse junk food se door rakhe aur fruit juice pilaye .
3.Radish oil/Juice: Muli ke tel nikal kar din mai 2 baar 20-40 ml rogi ko pilaye aur yadi tel na mile tho din mai ek baar muli ka juice pilaye .
4.Sikai:Rogi ki reed ki haddi par garm ya tandi sikai roz kare .
5.Juice: Angoor , nashpati, seb ka rush(apple juice) tino ko barabar matra mai mila kar pina chahiye.
6.: Kaali mirch powder aur sunti powder aur sahad(honey) ko mila kar rogi ke lakwa lae hisse par din mai 2-3 baar lagana chahiye aur isse rogi ko khane ko bhi dena chahiye.
7.Akarkara ki jad aur jaitun ka tel: Akarkara ki jadd(root) aur mahau oil ya olive oil ko sahi se mila kar rogi ke lakwa wale hisse par massage karne se 1 month mai lakwa thik hone lagta hai.
8.Ashwagandha: Ashwagandha ki jadon ko peese kar lep bana kar malish kare aur isse khane ko bhi de lakwa mai jald aaram milega.
9.Nasya: Ye ek ayurvedic upchar hai isske liye aap najdiki ayurdik clinik par ja kar upchar karwa sakte hai issme rogi ki naak mai kuch boondh Nasya ki dali jati hai.
10.Lahsun & Sahad: Lahsun(garlic) ka paste bana ker usme sahad mila kar chatney se 30 din mai lakwa thik hone lagta hai .
11.GheeGhay(cow) ka sudh ghee ko naak mai 2-2 boondh subah sham dalne se lakwa mai bahut aaram milta hai.
12.Khazor se malish: Khazor ke pulp (gudha) nikal kar lakwa wale hisse par roz dherey dheerey malish karne se lakwa sahi ho jata hai.



1.स्टीम बाथ: पानी की भाप का स्नान मतलब लॉगी के जिसस हिस्से पर लकवा ने मारा है वाहा पर कुछ देर तक भाक का इस्तेमाल करे.
2.अवाय्ड जंक/फास्ट फुड: लकवा रोगी की पाचन सकती कमजोर हो जाती है इससे लिए उससे जंक फुड से दूर रखे और फ्रूट जूस पिलाए .
3.रॅडिश आयिल/जूस: मूली के तेल निकल कर दिन मे . 2 बार 20-40 मिली लिट्टर रोगी को पिलाए और यदि तेल ना मिले तो दिन मे एक बार मूली का जूस पिलाए .
4.सिकाई:रोगी की रीड की हड्डी पर गर्म सिकाई रोज़ करे .
5.जूस: अंगूर , नाश्पति, सेब का रश(आपल जूस) तीनो को बराबर मात्रा मई मिला कर पीना चाहिए.
6.: काली मिर्च पाउडर और सुनती पाउडर और सहद(हनी) को मिला कर रोगी के लकवा वाले हिस्से पर दिन मे 2-3 बार लगाना चाहिए और इससे रोगी को खाने को भी देना चाहिए.
7.अकारकरा की जड़ और जैतून का तेल: अकारकरा की जद्द(रूट) और माहौ आयिल या ऑलिव आयिल को सही से मिला कर रोगी के लकवा वाले हिस्से पर मसाज करने से 1 माह मे लकवा ठीक होने लगता है.
8.अश्वगंधा: अश्वगंधा की जड़ों को पीसे कर लेप बना कर मालिश करे और इससे खाने को भी दे लकवा मे जल्द आराम मिलेगा.
9.नस्ीा: ये एक आयुर्वेदिक उपचार है इससके लिए आप नज़दीकी आयुरदिक क्लिनिक पर जा कर उपचार करवा सकते है इससमे रोगी की नाक मे कुछ बूँद नस्ीा की डाली जाती है.
10.लहसुन & सहद: लहसुन(गार्लिक) का पेस्ट बना कर उसमे सहद मिला कर चाटने से 30 दिन मई लकवा ठीक होने लगता है .
11. गाय घी(काउ) का सुध गीयी को नाक मई 2-2 बूँद सुबह शाम डालने से लकवा मई बहुत आराम मिलता है.
12.खजूर से मालिश: खजूर के पल्प (गुधा) निकल कर लकवा वाले हिस्से पर रोज़ धीरे-२ मालिश करने से लकवा सही हो जाता है.



No comments:

Post a comment